Our post

DTSi Engine technology क्या है?

DTSi का मतलब  Digital twin spark ignition होता है यानी कि इसमें 2 spark plug लगे होते हैं।
      जब हमारा इंजन 1 spark plug से fuel को burn करा सकता है तो हमे 2 spark plug ki क्यो जरूरत पड़ी?
 जैसा कि हम जानते हैं कि हमारे इंजन में air fuel का mixture जितना अच्छा होता है उतना ही ज्यादा इंजन को Power मिलता है क्योंकि compression stroke होने के बाद power स्ट्रोक में fuel burn होता है।
     बजाज company ने power stroke पर काम किया और इस DTSi technology को बनाया। इस technology में 2 spark plug होते हैं जो कि Burning efficiency को बहुत ज्यादा बढ़ा देते हैं जिससे कि हम बहुत ही कम fuel  में ज्यादा performance पा सकते है।

DTSi Engine technology के कुछ important parts :-

  1. ECU( Electronic control unit)
2 spark plug

 ECU( Electronic control unit) को DTSi इंजन का heart माना जाता है। इसमें एक micro processing Chip होता है जिसमे इंजन के load के rpm के हिसाब से ignition का timing pre-programmed होता है।

DTSi में cylinder के head में  2 spark plug 90° के angle पर लगे होते हैं। 2 spark प्लग के लगे होने की वजह से High voltage energy emmit होता है जो कि combustion chair में air fuel के mixture को burn करता है।
      Spark plug को 12000volt से लेकर 25000volt तक कि जरूरत होती है spark को produce करने के लिए|

फायदे (Advantage):
1. Detonation का problem कम हो जाता है।
2. Fuel का efficiency बढ़ जाता है।
3. Smooth होने की वजह से noise या vibration का problem नही होता है।
4. Combustion process अच्छी तरह से complete होता है।
5. Overheating का problem नही होता है।

नुकसान( Disadvantages)
1. इसका design बहुत ही complex होता है।
2. इस टेक्नोलॉजी बहुत ही expansive होता है।
3. अगर इसका 1 spark plug खराब हो जाये तो दोनों को बदलना पड़ता है।

Comments

Popular posts from this blog

क्या आप जानते है, बाइक ज्यादा चलने के बाद टिक टिक क्यों करती है?🤔🤔

Engine सीज क्यो होता है? इससे बचने के लिए क्या करें?

Automobile company में पूछे जाने वाले important questions (part-2)